रविवार, 19 सितंबर 2010

अकेली माँ भारती व्यथा सह रही है ||

 अँधेरे  के सौदागर करते हैं 
जहाँ रोशनी की तिजारत ,
डाकू और लुटेरे रखवाले हैं |
वहां क्या दुखड़ा रोना रोज -रोज व्यवस्था का 
देश ही समूचा जब नियति के हवाले है |
अब यहाँ कोई बीमारी से नहीं 
भूख से या फिर हादसों में बेमौत मरते हैं |
जानवरों से तो उनकी दोस्ती है 
वे सिर्फ आम आदमी से डरते हैं |
वैसे तो सब कुछ ठीक -ठाक है ,
महज गंगा उलटी बह रही है |
वे तो मालामाल और खुशहाल हैं ,
अकेली माँ भारती व्यथा सह रही है ||    

11 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुंचाईये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
    ‘‘ आदत यही बनानी है ज्यादा से ज्यादा(ब्लागों) लोगों तक ट्प्पिणीया अपनी पहुचानी है।’’
    हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    मालीगांव
    साया
    लक्ष्य

    हमारे नये एगरीकेटर में आप अपने ब्लाग् को नीचे के लिंको द्वारा जोड़ सकते है।
    अपने ब्लाग् पर लोगों लगाये यहां से
    अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    उत्तर देंहटाएं
  3. "वे तो मालामाल और खुशहाल हैं,
    अकेली माँ भारती व्यथा सह रही है"

    सच्ची और सटीक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. अँधेरे के सौदागर करते हैं
    जहाँ रोशनी की तिजारत ,
    डाकू और लुटेरे रखवाले हैं |
    वहां क्या दुखड़ा रोना रोज -रोज व्यवस्था का
    देश ही समूचा जब नियति के हवाले है |
    बहुत खूब...........

    उत्तर देंहटाएं
  5. वे तो मालामाल और खुशहाल हैं ,
    अकेली माँ भारती व्यथा सह रही है ||

    ‌‌‌बहुत ही शानदार ​लिखा है आपने। बधाई
    http://www.tikhatadka.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर अभिव्यक्ति ,शुभ कामनाएं । कुछ हट कर खबरों को पढ़ना चाहें तो जरूर पढ़े - " "खबरों की दुनियाँ"


    "

    उत्तर देंहटाएं
  7. हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं